chandrayaan-2 के चंद्रमा तक पहुंचने का रहस्य

0
7
chandriyaan2
chandriyaan2

आज देश का हर नागरिक ISRO के ऊपर गर्व कर रहा है और करना भी चाहिए क्योंकि इतनी बड़ी कामयाबी आज तक भारत के हाथ नहीं लगी है जो आज रात में लगने वाली है | 

chandrayaan-2 कि पहले लॉन्चिंग की तारीख 15 जुलाई 2019 तय की गई थी पर लांच के कुछ समय पहले खबर आई कि chandrayaan-2 15 जुलाई को लांच नहीं होगा | वजह बताई कि उसके रॉकेट में जो ईंधन है उसके प्रेशर में कुछ गड़बड़ हो गई है फिर उसके 7 दिन बाद यानी 22 जुलाई 2019 को chandrayaan-2 की सफलतापूर्वक लॉन्चिंग हुई |

फिर उसके 2 दिन बाद यानी 24 जुलाई 2019 को chandrayaan-2 ने पृथ्वी की कक्षा के चक्कर लगाने शुरू कर दिए इस बीच chandrayaan-2 ने चार चक्कर पृथ्वी की कक्षा के लगाए और यह चक्कर लगाने का सिलसिला 6 अगस्त तक चला इस बीच पृथ्वी से वैज्ञानिकों ने chandrayaan-2 की स्थितियों में कुछ बदलाव भी किया | फिर 1 सितंबर 2019 तक chandrayaan-2 384000 किलोमीटर का लंबा सफर तय करके चंद्रमा तक पहुंच चुका था |
फिर उसके बाद chandrayaan-2 दो हिस्सों में बट गया पहला हिस्सा ऑर्बिटऔर दूसरा लैंडर | लैंडर जो कि नीचे उतरेगा और इसका नाम हमने रखा है विक्रम | विक्रम नाम इसका क्यों रखा गया है आप यह भी जानिए |
विक्रम यानी कि विक्रम साराभाई एक मशहूर स्पेस साइंटिस्ट थे भारत के |

chandrayaan 2

आज रात में क्या है खास ?
आज रात में तकरीबन 1:30 बजे chandrayaan-2 अपने बाकी बचे हुए 34 किलोमीटर की दूरी तय करेगा इस 34 किलोमीटर को साइंटिस्ट बहुत ही ज्यादा गंभीर तरीके से देख रहे हैं क्योंकि यह 34 किलोमीटर भारत के लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है और यह सॉफ्ट लैंडिंग 34 किलोमीटर की chandrayaan-2 आज रात 1:30 बजे तय करेगा |
यह 34 किलोमीटर की दूरी के समय का एक 1 -1 सेकंड भी ISRO के लिए बहुत ज्यादा कीमती है और आज रात में पूरे देश की निगाह chandrayaan-2 की लैंडिंग पर होगी |
क्योंकि इससे पहले chandrayaan-1 की चंद्रमा की सतह पर क्रैश लैंडिंग हुई थी पर इस बार ISRO ऐसी कोई भी गलती करने के मूड में नहीं है |
आज रात ना सिर्फ भारत की बल्कि पूरी दुनिया की नजर chandrayaan-2 की लैंडिंग पर होगी |
खैर नतीजा जो भी हो apnaupdate.in आपको उस नतीजे से सबसे पहले रूबरू कराने का प्रयास करेगा |धन्यवाद|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here