ISRO ने चांद पर खोज निकाला Chandrayaan-2 का विक्रम लैंडर जल्द ही होगा संपर्क

0
20

ISRO चीफ के. सिवन ने आज देशवासियों को दी एक ऐसी जानकारी जिसका पूरा देश बड़ी बेसब्री से इंतजार कर रहा था  |  ISRO चीफ ने बताया कि चंद्रमा की सतह पर भारत द्वारा भेजा गया लैंडर लेंडर की एग्जैक्ट लोकेशन का पता चल गया है |
हालाकि विक्रम लैंडर से अभी कोई संपर्क नहीं हो सका है पर ISRO चीफ ने जल्दी संपर्क होने की आशा जताई और साथ ही साथ उन्होंने ये भी बताया कि विक्रम लैंडर अपनी चुनी हुई लोकेशन से 500 मीटर दूर गिरा है | 

कैसे चला विक्रम लैंडर का पता?

आपको बता दे की chandrayaan-2 में जो ऑर्बिटल भेजा गया था जो इस टाइम चांद की परिक्रमा कर रहा है और एक साल तक लगाएगा उसमें एक कैमरा लगा है इस कैमरे का नाम है ऑप्टिकल हाई रेजोल्यूशन कैमरा (OHRC) जिसकी मदद से ISRO ने chandrayaan-2 के बहुत ही अहम अंग विक्रम लैंडर का पता लगा लिया है अब उस कैमरे की मदद से विक्रम लैंडर जहा गिरा है उस जगह की तस्वीरें ली जा रही है जिससे ISRO को यह पता लगाने में आसानी हो कि विक्रम लैंडर अपने तय लोकेशन से 500 मीटर दूर क्यों गिरा |
ISRO के कुछ वरिष्ठ अधिकारियों ने Apnaupdate.in के साथ बातचीत में या भी बताया कि ऑर्बिटल के जरिए विक्रम ब लैंडर को लगातार संदेश भेजे जा रहे हैं ताकि फिर से विक्रम लैंडर के साथ ISRO का कम्युनिकेशन स्टार्ट हो सके.
ISRO चीफ के. सीवन ने अपनी बात चीत के दौरान यह भी बोला की हो सकता है कि लैंडर के नीचे लगे हुए चार इंजन में से कोई ये खराब होगया हो जिसकी वजह से विक्रम लैंडर अपनी तय सॉफ्ट लैंडिंग वाली जगह से 500 मीटर दूर गिरा हो

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here